Google+

Labels

Jagjit Singh : Shaam se aankh mein nami si hai / शाम से आँख में नमी सी है

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है 

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर
इस की आदत भी आदमी सी है

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी
एक तस्लीम लाज़मी सी है

====================


Shaam se aankh mein nami si hai
Aaj phir aapaki kami si hai

Dafn kar do hamein ke saans mile
Nabz kuch der se thami si hai

Waqt rahataa nahin kahin tik kar
Iski aadat bhi aadami si hai

Koyi rishtaa nahin rahaa phir bhi
Ek tasalim laazami si hai

Title: Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai
Album Name: MARASIM
Singer(s): JAGJIT SINGH
Lyrics : Gulzar

AddThis

Blog Archive